ITR Kya Hai
Know About It

ITR Kya Hai? – आईटीआर कैसे फाइल करें की पूरी जानकारी।

Rate this post

इनकम टैक्स रिटर्न (ITR) वह होता है जिस पर इनकम टैक्स डिपार्टमेंट कर (Tax) वसूलता है। आईटीआर फॉर्म को एक व्यक्ति जो इनकम टैक्स दाखिल करने की योग्यता रखता है को भारत के आयकर विभाग में जमा करना होता है। इसमें 1 वर्ष के दौरान व्यक्ति की आय और उस पर भुगतान किए जाने वाले करों की जानकारी होती है। हालाँकि जो टैक्स भरने के दायरे में नहीं आते है उन्हें भी ITR क्या है (What Is ITR In Hindi) व ITR Meaning In Hindi क्या है के बारे में पता होना चाहिए।

आई.टी.आर. का फुल फॉर्म Income Tax Return होता है जिसे हिंदी में आयकर रिटर्न कहते है। बहुत से लोगों को ये पता नहीं होता कि ITR Kya Hai, या ITR Ka Full Form क्या होता है तो उन्हें मैं बता दूँ कि, आयकर रिटर्न को इनकम टैक्स रिटर्न भी कहते है। ITR यानी कि आपकी आय (Income) से होने वाली कमाई को सरकार अपनी गतिविधियों और जनता को सुविधा और सेवाएं देने के लिए इस्तेमाल करती है।

ITR Kya Hai

ITR Kya Hota Hai

इनकम टैक्स रिटर्न (ITR) सरकार को अपने पिछले वित्तीय वर्ष का ब्यौरा देने के लिए भरा जाने वाला एक फॉर्म है। यह एक कानूनी दस्तावेज़ है जिसमें करदाता अपनी आमदनी (इनकम) का पूरा विवरण इनकम टैक्स विभाग को देता है कि, उसने उस वित्तीय वर्ष में किन स्रोतों से कितने पैसे कमाए, कितना निवेश किया, कितनी बचत की और कितना कर चुकाया आदि।

आईटीआर में दाखिल की गई जानकारी किसी विशेष वित्तीय वर्ष से के आधार पर होनी चाहिए, यानी 1 अप्रैल से शुरू होकर अगले साल के 31 मार्च को समाप्त होनी चाहिए।

ITR क्या होता है ये तो अब तब आप जान चुके होंगे, चलिए अब ITR Full Form क्या होता है इस बारे में चर्चा करते है।

ITR Full Form In Hindi

आईटीआर (ITR) का Full Form या मतलब ‘Income Tax Return‘ होता है जिसका हिंदी में फुल फॉर्म ‘आय कर रिटर्न’ होता है। आयकर रिटर्न एक वित्तीय वर्ष के अंत में इनकम टैक्स डिपार्टमेंट को Tax Return File या दाखिल करने की प्रक्रिया है।

ITR भरने के लिए आवश्यक दस्तावेज

इनकम टैक्स रिटर्न (ITR) ऑनलाइन दाखिल करने के लिए, आपको निम्नलिखित दस्तावेजों की आवश्यकता है:

  • पैन कार्ड
  • फॉर्म 26AS
  • फॉर्म 16ए, 16बी, 16सी
  • सैलरी पे स्लिप
  • बैंक डिटेल्स
  • इंटरेस्ट सर्टिफिकेट्स
  • TDS सर्टिफिकेट
  • कर बचत निवेश का प्रमाण
नोट: वित्त वर्ष 2020-21 के लिए, जिस भी व्यक्ति की कुल आय 2.5 लाख रुपये से अधिक है वह इनकम टैक्स एक्ट, 1961 की धारा 139 (1) के तहत टैक्स भरने के दायरे में आता है। हालांकि मूल छूट सीमा, वरिष्ठ नागरिकों (60 से 80 वर्ष के बीच की आयु) के लिए 3 लाख रुपये, अति वरिष्ठ नागरिकों के लिए 5 लाख रुपये (80 वर्ष या उससे अधिक आयु) है।

Online ITR Kaise File Kare

अब करदाता (Tax Payer) इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की ऑफिसियल वेबसाइट के जरिए ऑनलाइन अपना टैक्स फाइल कर सकते है। टैक्स फाइलिंग प्रक्रिया को आसान बनाने के लिए इसे बहुत सिंपल डिज़ाइन किया गया है।

  1. सबसे पहले ई-फाइलिंग वेबसाइट https://www.incometax.gov.in/iec/foportal पर जाएं।
  2. अपना रिटर्न ई-फाइल करने के लिए सबसे ऊपर दिए गए ऑप्शन से Register या Login करें।
  3. ‘Taxpayer’ ऑप्शन को सिलेक्ट करें और फिर अपने PAN की डिटेल्स दर्ज करके ‘Validate’ बटन पर क्लिक करें। इसके बाद, ‘Continue’ पर क्लिक करें।
  4. अब अपना नाम, पता, लिंग, आवासीय स्थिति, जन्म तिथि, ईमेल आईडी, और मोबाइल नंबर आदि जैसे डिटेल्स दर्ज करें और ‘Continue’ पर क्लिक करें।
  5. इसके बाद आपके ईमेल या मोबाइल पर आये 6 अंकों के OTP से अपनी डिटेल्स को Verify करें।
  6. OTP वेरीफाई करने के बाद आपको अपना एक सुरक्षित Password जनरेट करना होगा।
  7. अब आपको रजिस्ट्रेशन प्रोसेस Successful होने का मैसेज आएगा, बस अब Login करें और अपना इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करें।
ITR के प्रकार: इनकम टैक्स रिटर्न (ITR) फाइल करने के लिए आयकर विभाग ने 7 प्रकार के ITR फॉर्म निर्धारित किए है – ITR-1, ITR-2, ITR-3, ITR-4, ITR-5, ITR-6, ITR-7 और फॉर्म की प्रयोज्यता (Applicability) करदाता के प्रकार, प्रकृति और आय पर निर्भर करेगी।

Conclusion

ये थी आई टी आर क्या है In Hindi की विस्तृत जानकारी, उम्मीद करते है कि इस लेख के माध्यम से अब आप समझ गए होंगे आईटीआर क्या होता है और आईटीआर फाइल क्यों फाइल किया जाता है। अगर कोई करदाता निश्चित समय सिमा तक रिटर्न दाखिल नहीं करता है, तो उसके खिलाफ कानूनी कार्यवाही की जा सकती है। इसलिए तय सीमा पर ही अपना ITR दाखिल कर दें और भारत का जिम्मेदार नागरिक होने का अपना कर्तव्य पूरा करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!
DMCA.com Protection Status