KYC Kya Hai? – KYC फुल फॉर्म व इससे जुड़ी अन्य जानकारी।

Rate this post

KYC Full Form In Hindi या मतलब (Know Your Customer) होता है। इसका संक्षिप्त नाम “अपने ग्राहक को जानें” होता है। बैंक या किसी भी Financial (वित्तीय) सुविधाओं से जुड़ने एवं उनका लाभ लेने के लिए KYC करवाना बहुत जरुरी है। इसका उपयोग बैंक एवं वित्तीय संस्थाएँ ग्राहकों की पहचान करने और उनके Address को Verify करने के लिए करते है।

केवाईसी सम्बंधित आवश्यक दस्तावेजों जैसे- निर्धारित फोटो आईडी (जैसे, पैन कार्ड, आधार कार्ड) और एड्रेस प्रूफ और In-Person Verification (IPV) के माध्यम से एक निवेशक (Investor) की पहचान और पता स्थापित करता है। वर्तमान समय में KYC करवाना बहुत ही जरुरी है क्योंकि इसी के माध्यम से ग्राहक, उसका एड्रेस एवं अन्य जानकारी की पहचान की जाती है।

केवाईसी की आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए यहां मैं आपको KYC क्या होता है (What is KYC In Hindi), KYC का Full Form क्या है और KYC के लिए जरुरी Documents क्या है आदि जानकारी देने जा रहा हूँ।

KYC Kya Hai

KYC (नो योर कस्टमर) एक ऐसी प्रक्रिया है जिसके माध्यम से कोई बैंक या वित्तीय संस्थान किसी व्यक्ति और उसके पते की पहचान करता है। अब आप आधार कार्ड के द्वारा भी KYC करवा सकते है। यह एक अनिवार्य प्रक्रिया है जो प्रत्येक बैंक द्वारा अकाउंट खोलते समय और एक निश्चित अवधि में की जाती है।

RBI (भारतीय रिज़र्व बैंक) ने सभी बैंकों और वित्तीय संस्थानों के लिए KYC करवाना अनिवार्य कर दिया है कि वे उन सभी ग्राहकों की पहचान और पते की Verify करें जो उनके साथ Financial Transaction करते है। KYC में बैंक या वित्तीय संस्थाने अपने ग्राहकों से जरूरी KYC Documents के साथ एक फॉर्म भरवाकर ग्राहक की पहचान (Identity) और उसके पते (Address) की जानकारी प्राप्त करती है।

इस प्रक्रिया के माध्यम से यह सुनिश्चित किया जाता है कि किसी व्यक्ति द्वारा उस बैंक या कंपनी की सेवाओं का दुरुपयोग तो नहीं किया जा रहा है। इसलिए बैंकों द्वारा निश्चित समय अंतराल में ग्राहकों की KYC Status अपडेट करना होता है।

KYC Full Form In Hindi

KYC का Full FormKnow Your Customer” है। हिंदी में (KYC Ka Full Form in Hindi) “अपने ग्राहक को जानें” होता है।

KYC Full Form

भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) द्वारा भारत देश में KYC की शुरुआत वर्ष 2002 में की गई थी। जिसके बाद वर्ष 2004 में सभी बैंकों के Account Holder के लिए KYC करवाना अनिवार्य कर दिया गया है।

अगर आप इंटरनेट बैंकिंग या डिजिटल पेमेंट जैसे- GPay, PhonePe, Paytm, Amazon Pay आदि का उपयोग करते है तो आपको KYC करवाना अनिवार्य है। वर्तमान में Paytm ने अपने सभी ग्राहकों को वित्तीय लेन-देन के दौरान धोखाधड़ी से बचाने के लिए केवाईसी करवाना आवश्यक कर दिया है।

KYC करवाने के लिए जरुरी डाक्यूमेंट्स

केवाईसी (KYC) प्रक्रिया में ग्राहकों को एक फॉर्म भरना होता है जिसमें वेरिफिकेशन प्रोसेस को पूरा करने के लिए आपको सभी आवश्यक दस्तावेज की फोटोकॉपी लगाना होगी। आवश्यक दस्तावेजों की लिस्ट आपको नीचे दी गई है:

  • ड्राइविंग लाइसेंस (Driving License)
  • वोटर आईडी (Voter ID)
  • पासपोर्ट (Passport)
  • आधार कार्ड (Aadhaar Card)
  • पैन कार्ड (PAN Card)

KYC कैसे करें?

KYC करने के तीन अलग–अलग है आप तीनों में से किसी भी तरीके को अपना सकते है –

  • ऑनलाइन
  • आधार-आधारित बॉयोमेट्रिक प्रमाणीकरण
  • ऑफलाइन

KYC Online कैसे पूरा करें?

केवाईसी प्रक्रिया को पूरा करने के लिए आपको निचे बताई गयी Steps को फॉलो करना करना होगा –

  1. केवाईसी पूरा करने के लिए किसी भी KRA या Fund House की ऑफिसियल वेबसाइट पर जाएं।
  2. इसके बाद अपनी आधार कार्ड डिटेल्स दर्ज करें।
  3. OTP दर्ज करें और फिर ‘Submit’ पर क्लिक करें।
  4. UIDAI फिर भरी गयी डिटेल्स को Verify करता है। वेरिफिकेशन के बाद, KRA KYC प्रक्रिया को मंजूरी देता है।
  5. आप KRA पोर्टल पर जाकर अपने PAN Number जोड़कर अपनी केवाईसी की Status की जांच कर सकते हैं।

KRA द्वारा अनुमोदित ऑनलाइन केवाईसी प्रक्रिया को पूरा होने में लगभग 7 दिन लगते है।

KYC Offline कैसे पूरा करें?

ऑफलाइन KYC करने के लिए आपको निकटतम KRA केंद्र पर जाना होगा और वहां से एक KYC Form लेकर उसे भरके वैध दस्तावेजों के साथ जमा करना होगा। फॉर्म जमा करने के बाद, इसकी Status को Track करने के लिए Application Number प्राप्त करें। अगर सब कुछ सही रहता है आपकी केवाईसी प्रक्रिया पूरी हो जाती है।

Conclusion

KYC प्रक्रिया पूर्णतः निशुल्क है जिसे आप ऑफलाइन और ऑनलाइन दोनों तरीकों के माध्यम से पूरा कर सकते है। जब कोई व्यक्ति ऑफलाइन या ऑनलाइन केवाईसी प्रक्रिया को पूरा करता है, तो उसे 50,000 रुपये का निवेश करने की अनुमति होती है।

तो दोस्तों ये थी केवाईसी से जुड़ी पूरी जानकारी (KYC Information in Hindi) जो आपको जरूर पसंद आयी होगी। इस लेख से जुड़े आपके कोई सवाल हो तो आप हमे कमेंट करके पूछ सकते है हम आपके सवालों के जवाब जरूर देंगे। जानकारी पसंद आयी हो तो इसे Share जरूर करें, धन्यवाद।

     

मैं 27 वर्ष का सुमित गोविन्द राव, इलाहबाद विश्वविद्यालय से अर्थशास्त्र में Ph.D. हूँ और मैने एक वरिष्ठ कॉलेज प्रोफेसर के रूप में 4 वर्ष से भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, दिल्ली (IIT दिल्ली) में काम किया है। एक Ph.D. और प्रोफेसर होने के नाते, मैने दुनिया भर में शिक्षा, स्वास्थ, तकनीक और अन्य के बारे में लिखने के लिए हिंदी दुनिया वेबसाइट की शुरुआत की। Contact: [email protected]

Leave a Comment

error: Content is protected !!