पीएचडी क्या हैं? PHD Full Form, इसकी तैयारी व योग्यता

4.8/5 - (25 votes)

Phd Kya Hai -अगर आप किसी विषय विशेष के बारे में गहन अध्यन अथवा शोध करना चाहते हैं, तो आप इसके लिए उस विषय में पीएचडी कर सकते हैं। जी हाँ PhD एक डॉक्टरेट शैक्षणिक डिग्री है, जिससे आप किसी विषय विशेष में उच्चतम शिक्षा प्राप्त कर सकते है। अगर आप भी किसी विशिष्ट विषय में महारत हासिल करना चाहते है तो आपको भी यह डिग्री करना चाहिए। इस लेख में आपको पीएचडी कैसे करें एवं PhD Kitne Saal Ka Hota Hai आदि सभी जरुरी चीजे बताई गयी है।

यह किसी विशिष्ट विषय में विश्वविद्यालयों और उच्च शिक्षा संस्थानों द्वारा एक उम्मीदवार को प्रदान की जाने वाली एक अकादमिक या प्रफेशनल डिग्री है। जो उम्मीदवार इस डिग्री को हासिल कर लेते है वे विश्वविद्यालय स्तर पर अपने चुने हुए विषय को पढ़ाने या अपने चुने हुए क्षेत्र में किसी भी यूनिवर्सिटी या कॉलेज में विद्यार्थियों को पढ़ाने के योग्य बनाती है।

इसलिए आज इस लेख में, मैं आपको पीएचडी से जुड़ी सभी महत्वपूर्ण जानकारियाँ बताऊंगी जैसे PhD क्या है, और PhD Kaise Kare?, पीएचडी के लिए योग्यता, PhD Course Duration क्या है एवं PhD Ki Taiyari Kaise Kare आदि।

PhD क्या है?

Ph।D (पीएचडी) एक विशिष्ट शोध आधारित डॉक्टरेट डिग्री है, जिसे आप मास्टर डिग्री यानि पोस्ट-ग्रेजुएशन पूरा करने के बाद कर सकते है। आप विभिन्न विषयों अथवा क्षेत्रों में पीएचडी कर सकते है। यह एक डॉक्टरल डिग्री है इसलिए Ph।D की डिग्री प्राप्त कर लेने के बाद आपके नाम के आगे डॉक्टर जुड़ जाता है।

पीएचडी पाठ्यक्र्म का अध्ययन आप दो प्रारूपों में कर सकते है: पहला फुल टाइम पीएचडी (पूर्णकालिक पीएचडी) और दूसरा पार्ट टाइम (अर्धकालिक पीएचडी) सामान्यता PhD कोर्स की समयावधि 3 साल की होती है, पर इसे अधिकतम 6 सालों में पूर्ण किया जा सकता है।

पीएचडी की डिग्री प्राप्त कर लेने के बाद आपके लिए कई सारे करियर विकल्प खुल जाते है, जैसे आप किसी कॉलेज/यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर अथवा लेक्चरर के तौर पर पढ़ा सकते है। किसी शोध संस्थान के साथ रिसर्चर के रूप में कार्य कर सकते है।

PhD का फुल फॉर्म

PhD (पीएचडी) का फुल फॉर्म इंग्लिश में “Doctor of Philosophy” है और हिंदी में इसे विद्या वाचस्पति कहते हैं.

PhD का पूरा नाम Doctor of Philosophy
PhD कोर्स की अवधि 3 से 6 वर्ष
औसत फीस 50,000 – 2,00,000 रूपये
टॉप रिक्रूटर्स विश्वविद्यालय, कॉलेज, प्रकाशन एजेंसियां आदि
टॉप जॉब प्रोफाइल्स प्रोफेसर, लेक्टरर्स, मैनेजमेंट कंसलटेंट, रिसर्च साइंटिस्ट आदि
औसत वेतन 6 से 9 लाख रूपये प्रति वर्ष

PhD के लिए योग्यता

  • पीएचडी कोर्स में आवेदन करने के लिए आपका ग्रेजुएशन (स्नातक) पूरा होना जरुरी है.
  • ग्रेजुएशन पूरा हो जाने के बाद आपकी मास्टर डिग्री यानि पोस्ट-ग्रेजुएशन (MA, M.Com, M.Tech, M.Phil, M.Sc, MBA) कम से कम 55% अंकों के साथ पूरा होना चाहिए.
  • पीएचडी करने के लिए आपको UGC NET प्रवेश परीक्षा उत्तीर्ण करना जरुरी है.

PhD कैसे करें?

पीएचडी कैसे करें इसकी पूरी प्रक्रिया मैंने आगे आपको विभिन्न चरणों में समझाई है:

  1. Ph.D में आवेदन करने के लिए सबसे पहले आपको 12वीं कक्षा उत्तीर्ण करना जरुरी है.
  2. 12वीं पास कर लेने के बाद अब आपको अपना ग्रेजुएशन पूरा करना होगा. ग्रेजुएशन में आप वहीं विषय चुनें जिसमें आपकी विशेष रूचि हो.
  3. जब आप अपना 3 अथवा 4 वर्ष का ग्रेजुएशन भी पूरा कर लेते है, तो इसके बाद अब आपको पोस्ट-ग्रेजुएशन (एम.ए, एम.टेक, एम.फिल, एमबीए, एमएससी) कम से कम 55% अंकों के साथ पूरा करना होगा. जिसके बाद ही आप पीएचडी के लिए,  आयोजित की वाली एंट्रेंस एग्जाम के लिए अप्लाई कर सकते है.
  4. पीएचडी करने के लिए अब अगले स्तर में आपको PhD के लिए आयोजित की जाने वाली UGC NET प्रवेश परीक्षा को क्लियर करना होगा, जिसके बाद ही आपको पीएचडी करने के लिए देश के टॉप और प्रतिष्ठित कॉलेज में एडमिशन मिलता है.
  5. बहुत से कॉलेजों में प्रवेश के लिए अलग से परीक्षा ली जाती है वहीं किसी-किसी संस्थान में उम्मीदवारों का इंटरव्यू भी लिया जाता है.

PhD कितने साल का होता है?

आमतौर एक पीएचडी कोर्स की अवधि 3 साल की होती है और उम्मीदवारों को अधिकतम 5 से 6 साल की अवधि के भीतर अपना कोर्स पूरा करना होता है। हालाँकि, पीएचडी कोर्स की अवधि एक विश्वविद्यालय या संस्थान से दूसरे संस्थान में भिन्न हो सकती है। पीएचडी प्रोग्राम में आगे बढ़ाने के लिए योग्यता के तौर पर उम्मीदवारों के पास मास्टर डिग्री होनी चाहिए।

पीएचडी की तैयारी कैसे करें

अगर आप पीएचडी करने का मन पहले से ही बना चुके हैं, तो आपको अपना ग्रेजुएशन पूरा होते ही मास्टर डिग्री करने के साथ-साथ पीएचडी की तैयारी शुरू कर देना चाहिए, जिससे मास्टर डिग्री पूरी करते ही आप Ph.D के लिए आवेदन कर सकें. आगे मैंने आपको कुछ ऐसे विशेष तथ्यों से अवगत कराया है, जो आपको Ph.D की तैयारी करने में मदद करेंगे.

  • अपनी मास्टर डिग्री करने के दौरान उस विषय पर विशेष ध्यान दें, जिस विषय में आप पीएचडी करना चाहते हैं और उससे सम्बंधित पुस्तकें एवं लेख पढ़ें.
  • अनुभवी अध्यापकों और सीनियर्स की सलाह लें.
  • कुछ उच्च पीएचडी विश्वविद्यालयों के विशेषज्ञों के बारे में शोध करें, इससे आप यह समझ पाएंगे कि आपको PhD के लिए किस पाठ्यक्रम का चयन करना चाहिए.
  • UGC NET के पिछले कुछ पुराने वर्षों के प्रश्न पत्रों को हल करें. इससे आप प्रवेश परीक्षा में आने वाले प्रश्नों के प्रारूप से अवगत होंगे.

पीएचडी के विषय

  • सामान्य भौतिकी
  • केमिस्ट्री
  • जनरल मनोविज्ञान
  • व्यवसाय प्रशासन
  • इलेक्ट्रिकल, इलेक्ट्रॉनिक्स एवं संचार इंजीनियरिंग
  • सामान्य अंग्रेजी
  • साहित्य
  • वाणिज्य प्रबंधन
  • जीव विज्ञान
  • सामजिक विज्ञान
  • कानून
  • एग्रीकल्चर
  • शिक्षा में पीएचडी

ऐसे और भी अन्य कई विषय उपलब्ध है, जिनसे आप पीएचडी कर सकते है.

पीएचडी क्यों करें?

बहुत से लोगों को पढ़ने का, किसी विषय के बारे में गहराई से जानकारी प्राप्त की लालसा होती है, ऐसे लोगों के लिए पीएचडी सबसे अच्छा विकल्प है.

  • PhD करने से आप किसी विशेष क्षेत्र अथवा किसी विषय विशेष के विशेषज्ञ बन जाते हैं.
  • आप किसी भी बड़े और प्रतिष्ठित विद्यालय में प्रोफेसर के पद पर कार्य कर सकते हैं.
  • किसी अनुसंधान केंद्र में विशेष क्षेत्र में विशेषज्ञ के रूप में अपना योगदान दे सकते हैं.
  • पीएचडी करने से न केवल आपका शिक्षा जगत में नाम होता है बल्कि आपके  दिमाग के कार्य करने की क्षमता का भी विस्तार होता है.
  • Ph.D की डिग्री प्राप्त कर लेने के बाद आपके नाम के साथ डॉक्टर लग जाता है.

PhD कोर्स की फीस

पीएचडी पाठ्यक्रम के लिए ली जाने वाली फीस की बात करें तो यह कॉलेजों पर निर्भर करती है. सरकारी कॉलेजों में PhD कोर्स की फीस 15 हजार से लेकर अधिकतम 40 हजार तक ली जाती है, वहीं प्राइवेट संस्थानों में पीएचडी के लिए फीस 50 हजार से लेकर 2 लाख रूपए सालाना ली जा सकती है.

अगर आप UGC NET का पेपर अच्छे अंकों के साथ उत्तीर्ण कर लेते है, तो आपको भारत के टॉप और अच्छे कॉलेजों में कम से कम फीस के साथ प्रवेश मिल जाता है.

PhD के लिए भारत के टॉप कॉलेजेस/यूनिवर्सिटीज

  1. इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ साइंस (बैंगलोर)
  2. जवाहरलाल नेहरु यूनिवर्सिटी (नई दिल्ली)
  3. यूनिवर्सिटी ऑफ दिल्ली (दिल्ली)
  4. बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी (वाराणसी)
  5. यूनिवर्सिटी ऑफ कलकत्ता (कोलकाता)
  6. मणिपाल एकैडमी ऑफ हायर एजुकेशन (मणिपाल)
  7. अन्ना यूनिवर्सिटी (चेन्नई)
  8. बिरला इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी एंड साइंस (पिलानी)
  9. इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (आईआईटी)
  10. इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ मैनेजमेंट (आईआईएम)
  11. इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी (आईआईआईटी)

पीएचडी के बाद क्या करे

अकादमिक

पीएचडी पूरी होने के बाद यह सबसे पसंदीदा करियर विकल्पों में से एक है जिसमें आप किसी भी इंस्टिट्यूट में टीचिंग, लेक्चर देना, स्लाइड तैयार करना, रिसर्च करना, प्रशासन का प्रबंधन करना, कुछ अवसरों पर कॉलेज या इंस्टिट्यूट का प्रतिनिधित्व करना और किसी विशिष्ट क्षेत्र में सेमिनार्स और लेक्टर्स में भाग लेना।

एक Consultant के रूप में काम करना

एक पीएचडी होल्डर को एक सामान्य व्यक्ति की तुलना में समस्याओं के बारे में अधिक समझ एवं अलग दृष्टिकोण रखने की समझ होती है। क्योंकि उन्हें कठिन समस्याओं के निवारण के लिए ट्रेनिंग दी जाती है। इसलिए बहुत सी फर्म्स पीएचडी होल्डर्स को ज्यादा महत्व देती है।

गवर्नमेंट सेक्टर में

अगर आप सरकारी नौकरी पाना चाहते है या देश की सेवा करना चाहते है, तो पीएचडी के बाद आप सरकारी क्षेत्र में दी जाने वाली नौकरियों के लिए जा सकते है, सरकारी प्रोफेसर या लेक्चरर बनाना, मंत्रालय में परामर्श का कार्य करना आदि शामिल है।

सारांश

आशा करती हूँ, कि आपको आज की यह पोस्ट पीएचडी की तैयारी कैसे करें पसंद आई होगी. आज इस लेख में आपने Ph.D से जुड़ी विभिन्न जानकारियों के बारे में जाना कि पीएचडी क्या होती है, इसे कैसे कर सकते है, पीएचडी के लिए योग्यता और फीस क्या है इसके साथ ही पीएचडी करने लिए बेहतरीन सुझाव भी मैंने आपको इस पोस्ट में दिए. आप इस लेख को अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ शेयर करना न भूलें. धन्यवाद!

     

मैं 27 वर्ष का सुमित गोविन्द राव, इलाहबाद विश्वविद्यालय से अर्थशास्त्र में Ph.D. हूँ और मैने एक वरिष्ठ कॉलेज प्रोफेसर के रूप में 4 वर्ष से भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, दिल्ली (IIT दिल्ली) में काम किया है। एक Ph.D. और प्रोफेसर होने के नाते, मैने दुनिया भर में शिक्षा, स्वास्थ, तकनीक और अन्य के बारे में लिखने के लिए हिंदी दुनिया वेबसाइट की शुरुआत की। Contact: [email protected]

Leave a Comment

error: Content is protected !!