115+ Short Stories in Hindi – [With Videos] बच्चों के लिए

5/5 - (1 vote)

Short Stories in Hindi – शॉर्ट स्टोरीज (Short Stories) या लघु कथा सुनना या पढ़ना किसे पसंद नहीं होता, आप सभी ने अपने बचपन में नाना-नानी और दादा-दादी से कहानियां तो जरुर सुनी होगी जो कि मनोरंजक तो होती हीं थीं, साथ ही बहुत प्रेरणादायक भी होती थीं, जैसे: राजा-रानी, परियों की कहानियां और भी ऐसी बहुत सी शॉर्ट स्टोरीज जो हमारा मनोरंजन करने के साथ हमे कुछ न कुछ सीख भी देती है. ऐसी ही कुछ प्रेरणादायक Short Stories In Hindi आज मैं इस लेख में बताऊंगी जिसे आप भी पढ़ सकते है और साथ ही अपने बच्चो या दूसरों को सुना भी सकते है, जिससे वे भी इन कहानियों से सीख ले सकें.

शॉर्ट स्टोरीज क्या होती है?

शॉर्ट स्टोरी को हिंदी में लघु कथा कहा जाता है. शॉर्ट स्टोरीज, उपन्यासों (नॉवेल) से छोटी होती हैं और उनकी तुलना में कम कठिन होती है. लघु कथाएं एक  घटना, एक क्षण या किसी विषय पर आधारित होती है. हिंदी कहानी (Kahani Hindi) या लघु कथाओं से लोगों को अंत में कुछ न कुछ अच्छी शिक्षा अवश्य मिलती है.

short_stories_in_hindi

Short Story In Hindi [2022]

कुछ लोकप्रिय प्रेरणादायक हिंदी कहानियां (Hindi Moral Story) नीचे दी हुई हैं जिन्हें आप अपने बच्चों को सुना सकते है और उन्हें इन कहानियों में मिलने वाली सीख से अच्छे और बुरे के बीच फर्क भी समझा सकते है. अगर आप बच्चों को ये Hindi Short Stories सुनाएंगे तो उन्हें यह बहुत पसंद तो आएगी ही साथ ही इससे उन्ही कुछ न कुछ सीख भी जरूर मिलेगी।

1. शेर और चूहा: (Hindi Short Stories With Moral For Kids)

एक जंगल में एक शेर और एक चूहा रहता था. एक दिन की बात है शेर गहरी नींद में सो रहा था और चूहा सोते हुए शेर के ऊपर खेलने लगा जिससे शेर की नींद खुल गई और शेर को गुस्सा आ गया. शेर ने चूहे को पकड़ लिया, चूहा डर गया फिर उसने शेर से माफ़ी मांगी और कहा आज के बाद वो ऐसा नहीं करेंगा. शेर ने चूहे पर दया दिखाते हुए उसे छोड़ दिया.

एक दिन जंगल में शिकारी आए और शेर को पकड़ने के लिए शिकारियों ने जाल बिछाया. जिसमें शेर फस गया और घबरा गया. शेर को जाल में फसा हुआ देख चूहे ने जल्दी से अपने दांतों से जाल को काट दिया जिससे शेर आजाद हो गया और उसकी जान बच गई.

सीख:- आप किसी के साथ अच्छा करते हैं, तो आपके साथ भी अच्छा होता हैं.

2. शैतान सियार: (Hindi Short Stories with Moral)

एक शैतान सियार था। वह रोज अपने पास के गांव में जाता और लोगों के घर में जो भी मिलता उसे चुरा लेता था. ऐसा बहुत दिनों तक चलता रहा. रोज-रोज की चोरी से गांव के लोग भी परेशान हो गए थे, पर वो चोर को पकड़ नही पा रहे थे.

एक दिन गांव वालों ने सोचा की आज तो चोर को पकड़ कर ही रहेंगे. रात होते ही वो सब छुप कर चोर का इंतजार करने लगे. सियार चोरी करने आया और उसने देखा की सब गांव वाले चोर को ढूंढ़ रहे है तो वो छुप गया. उसे सामने से एक साधु आते हुए दिखाई दिया. सियार ने बड़ी नम्रता से साधु से कहा “मेरे पैर में चोट लग गई है कृपया मेरी मदद करें और मुझे मेरे घर तक छोड़ दें”

साधु बहुत दयालु था वो मान गया और उसे अपने झोले में बैठा लिया. जैसे ही वो सियार के घर के पास पहुंचे तो सियार जोर – जोर से चिल्लाने लगा, ” यहां है चोर, ये झोले वाला चोर” ऐसा चिल्लाते हुए भाग गया. गांव वाले वहां आए और साधु को चोर समझ कर उसकी बहुत पिटाई की.

सीख:- अनजान व्यक्ति पर कभी भी अंधा विश्वास नहीं करना चाहिए.

3. टिड्डे और चींटी की कहानी: (Moral Stories in Hindi in Short)

एक समय कि बात है, एक टिड्डा और एक छोटी चींटी साथ-साथ रहते थे. वो बहुत अच्छे दोस्त थे. टिड्डा बहुत ही मनमौजी था. वो हरी-हरी घास खाता और सारा दिन इधर-उधर घूमते, नाचते गाते हुए बिता देता था. वहीं दूसरी तरफ छोटी चींटी रोज सुबह जल्दी उठती और अपने लिए लकड़िया, सूखे पत्ते और भोजन जमा करने लगती.

टिड्डे एक दिन चींटी के पास गया और बोला “तुम रोज इतनी मेहनत से खाना, लकड़ियां क्यों इक्ट्ठा कर रही हों?” देखो कितना अच्छा मौसम है, उसका आनंद लेने की जगह तुम मेहनत कर रही हों. चींटी ने उसे समझाया कि जल्दी ही सर्दियों का मौसम आने वाला हैं मेरी मानो तो तुम भी अपने लिए अभी से भोजन का इंतजाम करना शुरु कर दो, क्योंकि सर्दियों में आसानी से भोजन नही मिलता। पर टिड्डे ने चींटी की एक बात न मानी ऊपर से उसका मजाक उड़ाने लगा. टिड्डे ने सारा समय खेलने, कूदने और गाने में बिता दिया.

सर्दियों के दिन आ चुके थे. चारों तरफ तेज़ ठंडी हवाएं और बर्फ गिरना शुरू हो गयी थी. अब टिड्डे को खाने के लिए हरी घास भी नहीं मिल रही थीं. ठण्ड और भूख़ के कारण उसका बुरा हाल हो गया था. तब वह चींटी की बात याद करके पछताने लगा.

सीख:- अपने भविष्य एवं आने वाले समय को आनंददायक बनाने के लिए हमे वर्तमान में कड़ी मेहनत और लगन के साथ काम करना चाहिए.

4. एकता की सीख: (Short Moral Stories in Hindi for Class 1)

एक समय की बात है. एक गाँव में एक आदमी रहता था उसके 3 पुत्र थे. तीनों पुत्र बहुत ही मेहनती थे, परन्तु आपस में उनकी एक भी नहीं बनती थी. वो हमेशा एक दूसरे से लड़ते रहते थे. उस आदमी ने उन्हें समझाने की बहुत कोशिश की आपस में साथ मिल कर रहना चाहिए पर तीनों में कोई भी यह बात नहीं समझा.

समय बीतता गया, वह आदमी अब बूढ़ा हो चूका था. एक समय वह बहुत बीमार पड़ गया उसे लगा उसका अंत समय आ गया है. अंत समय में भी वो अपने तीनो पुत्र को लेकर परेशान था. वह अपने पुत्रो को एकता में कितनी शक्ति होती है यह समझाना चाहता था, इसलिए उसने तीनों को अपने पास बुलाया. और तीनो को एक-एक लकड़ी दी और कहा कि इसे तोड़ कर दिखाओ.

तीनो ने अपनी-अपनी लकड़ी तोड़ दी और अपने पिताजी से कहा की यह तो कितना आसान काम था. उनके पिताजी मुस्कुराये और फिर 10 लकड़ियों का एक गट्ठर दिया और कहा इसे एक साथ तोड़ कर बताओ. तीनो पुत्रो ने एक-एक करके प्रयास किया पर उस गट्ठर को तोड़ नहीं पाए और थक कर अपने पिताजी से बोले कि यह लकड़ियों का गट्ठर एक साथ नहीं तोड़ा जा सकता.

पुत्रों को समझते हुए उनके पिताजी ने मैं तुम लोगों को यही समझाना चाहता था कि एक साथ मिल कर रहोंगे तो तुम लोगो को कोई नुकसान नहीं पंहुचा सकता है. अगर तुम लोग आपस में लड़ोगे एक दूसरे का साथ नहीं दोगे तो कोई भी तुमको आसानी से हरा देगा। तीनो पुत्रों को बात समझ आ गयी और उन्होंने अपने पिताजी से कहा की अब से वो एक साथ रहेंगे.

सीख :- एकता में शक्ति होती है.

निष्कर्ष

हर माता-पिता चाहते है कि वो अपने बच्चों को बचपन से ही अच्छी सीख दें इसलिए पेरेंट्स उ न्हें शॉर्ट स्टोरीज के माध्यम से जीवन का पाठ पढ़ाते है. शॉर्ट स्टोरीज से बच्चों के दिमाग पर विशेष प्रभाव पड़ता है, जिससे वो सही और गलत के बीच अंतर समझ पाते है. मैंने इस लेख में आपको कुछ बेहतरीन Story For Kids In Hindi बतायी है. साथ ही उन स्टोरीज से हमें क्या सीख मिलती है, यह भी बताया है जिन्हें आप अपने बच्चे के साथ शेयर कर सकते है. धन्यवाद!

     

मैं 27 वर्ष का सुमित गोविन्द राव, इलाहबाद विश्वविद्यालय से अर्थशास्त्र में Ph.D. हूँ और मैने एक वरिष्ठ कॉलेज प्रोफेसर के रूप में 4 वर्ष से भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, दिल्ली (IIT दिल्ली) में काम किया है। एक Ph.D. और प्रोफेसर होने के नाते, मैने दुनिया भर में शिक्षा, स्वास्थ, तकनीक और अन्य के बारे में लिखने के लिए हिंदी दुनिया वेबसाइट की शुरुआत की। Contact: [email protected]

Leave a Comment

error: Content is protected !!